Breaking News
26 फरवरी खास होगा.. झारखंड के लिए पीएम मोदी 226.71 करोड़ की सौगात देंगे.. 26 फरवरी को तोहफों की झड़ी  |  लोकसभा चुनाव के लिए BJP का 'लाभार्थी संपर्क अभियान' से प्लान से गांव तक पैठ बनाने की तैयारी  |  "हेमंत सोरेन ने मेरी बात मानी होती.. तो आज जेल में नहीं होते" …JMM विधायक के बगावती तेवर!  |  “आज मेरी तो कल तेरी..” भाजपा नेताओं पर भड़के झामुमो विधायक, झारखंड में सरकार गिरने की बड़ी वजह बता दी..  |  PM Kisan Yojana: हजारों किसानों को लग सकता है बड़ा झटका! अब ये करने पर ही मिलेंगे 2000 रुपये..  |  चंपई सरकार ने विधानसभा में हासिल किया विस्वास मत, पक्ष में पड़े 47 वोट  |  '..बाल बांका करने की ताकत', विधानसभा में फूटा हेमंत सोरेन का गुस्सा, ED-BJP के साथ राजभवन को भी घेरा  |  CM बनते ही एक्शन में चंपई सोरेन, 3 वरिष्ठ अधिकारियों की दी बड़ी जिम्मेदारी; लॉ एंड ऑर्डर सख्त करने की तैयारी  |  अयोध्या के लिए Special Train.. 29 जनवरी को 22 कोच के साथ रवाना होगी आस्था स्पेशल एक्सप्रेस, जानें ट्रेन का शेड्यूल  |  अयोध्या के लिए Special Train.. 29 जनवरी को 22 कोच के साथ रवाना होगी आस्था स्पेशल एक्सप्रेस, जानें ट्रेन का शेड्यूल  |  
राजनीति

उमेश कुमार झा, झारखण्ड लाइफ। 07/02/2024 :
"हेमंत सोरेन ने मेरी बात मानी होती.. तो आज जेल में नहीं होते" …JMM विधायक के बगावती तेवर!
 
झारखंड बचाओ मोर्चा के बैनर तले विधायक लोबिन हेंब्रम ने जमकर अपनी भड़ास मौजूदा सियासी हालात पर निकाली और अपनी ही पार्टी पर जमकर बरसे.

 

झारखंड में चंपई सोरेन के नेतृत्व में नयी सरकार का गठन भले हो गया हो, लेकिन संकट के बादल अभी तक छटे नहीं हैं. हेमंत सोरेन के जेल जाते ही पार्टी में बगावती सुर बुलंद होने लगे हैं. साहिबगंज में विधायक लोबिन हेंब्रम ने एक सभा के दौरान झारखंड मुक्ति मोर्चा से अलग होने की बात कहकर चौंका दिया. उन्‍होंने यहां तक कह दिया कि हेमंत सोरेन की नीतियां ठीक नहीं थीं, अब वह उनकी बात मानते तो जेल की हवा नहीं खानी पड़ती.  

 

लोबिन हेंब्रम ने एक सभा के दौरान कहा, "सीएनटी एक्ट, एसपीटी एक्ट एवं खतियान आधारित स्थानीय नीति झारखंड मुक्ति मोर्चा के चुनाव के मेनिफेस्टो में यह मुद्दा था. लेकिन अभी तक ये लागू नहीं किया. दूसरी ओर झारखंड के मूल निवासियों को कोई स्थान नहीं देकर बाहर के लोग यानी बिहार के लोगों के नेतृत्व में, जिसमें पंकज मिश्रा, अभिषेक कुमार, सुप्रिया भट्टाचार्य आदि शामिल हैं, उनके द्वारा सरकार चलाई जा रही है."

 

साहिबगंज से विधायक लोबिन हेंब्रम ने कहा, "झारखंड हम लोगों को लड़ कर बहुत संघर्ष के बाद मिला है. यहां पर मुख्यमंत्री आदिवासी चाहिए था, लेकिन आदिवासी नाम मात्र का है... ये सभी का नेतृत्व करता बिहारी है. इस बात को लेकर मैंने कई बार विरोध किया था, लेकिन मेरी बात को हेमंत सोरेन अनसुनी करते आ रहे थे. अंत में आज उन्हें ईडी के द्वारा गिरफ्तार किया गया और चंपई सोरेन को मुख्यमंत्री बनाया गया." 

 

झारखंड बचाओ मोर्चा के बैनर तले विधायक लोबिन हेंब्रम ने जमकर अपनी भड़ास मौजूदा सियासी हालात पर निकाली और अपनी ही पार्टी पर जमकर बरसे. हालांकि, यह पहली बार नहीं है, जब लोबिन हेंब्रम के ऐसे बगावती बोल सुनने को मिले हैं.  

 



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life
')