Breaking News
26 फरवरी खास होगा.. झारखंड के लिए पीएम मोदी 226.71 करोड़ की सौगात देंगे.. 26 फरवरी को तोहफों की झड़ी  |  लोकसभा चुनाव के लिए BJP का 'लाभार्थी संपर्क अभियान' से प्लान से गांव तक पैठ बनाने की तैयारी  |  "हेमंत सोरेन ने मेरी बात मानी होती.. तो आज जेल में नहीं होते" …JMM विधायक के बगावती तेवर!  |  “आज मेरी तो कल तेरी..” भाजपा नेताओं पर भड़के झामुमो विधायक, झारखंड में सरकार गिरने की बड़ी वजह बता दी..  |  PM Kisan Yojana: हजारों किसानों को लग सकता है बड़ा झटका! अब ये करने पर ही मिलेंगे 2000 रुपये..  |  चंपई सरकार ने विधानसभा में हासिल किया विस्वास मत, पक्ष में पड़े 47 वोट  |  '..बाल बांका करने की ताकत', विधानसभा में फूटा हेमंत सोरेन का गुस्सा, ED-BJP के साथ राजभवन को भी घेरा  |  CM बनते ही एक्शन में चंपई सोरेन, 3 वरिष्ठ अधिकारियों की दी बड़ी जिम्मेदारी; लॉ एंड ऑर्डर सख्त करने की तैयारी  |  अयोध्या के लिए Special Train.. 29 जनवरी को 22 कोच के साथ रवाना होगी आस्था स्पेशल एक्सप्रेस, जानें ट्रेन का शेड्यूल  |  अयोध्या के लिए Special Train.. 29 जनवरी को 22 कोच के साथ रवाना होगी आस्था स्पेशल एक्सप्रेस, जानें ट्रेन का शेड्यूल  |  
महिला जगत

उमेश कुमार झा, झारखण्ड लाइफ। 22/11/2023 :15:36
रिलेशनशिप : लड़कियां रोमांटिक पार्टनर से ज्यादा दोस्त को तवज्जो देतीं हैं.. आपका बेस्ट फ्रेंड आपका रोमांटिक पार्टनर बन सकता है.. इन 5 बातों का रखें ध्यान
 
ज्यादातर महिलाएं डेटिंग पर जाने से पहले अपनी फ्रेंडशिप को ज्यादा तवज्जो देती हैं। कनेक्टेड वुमन नाम की संस्था की एक रिसर्च के अनुसार, 18 साल से ज्यादा की उम्र वाली महिलाएं रोमांटिक रिलेशनशिप की तरह ही अपनी दोस्ती को भी मानती हैं। फ्रेंडशिप उनके लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

  

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की एक स्टडी के अनुसार, 10 से 24 साल के लड़के-लड़कियों में से करीब आधे फिल्मों और टीवी में दिखाई जाने वाली आदर्श रिलेशनशिप के बारे में सोचते हैं। कनेक्टेड वुमन की रेजिडेंट साइकोलॉजिस्ट जैकुई मैनिंग कहती हैं कि इसमें कोई हैरान होने वाली बात नहीं है। आखिरकार हम इंसान आदिम पशु ही हैं। हमें अपनी जिंदगी में ऐसे लोगों की जरूरत होती है, जो ऐसे रिश्तों को मजबूत बनाते हैं, ताकि उम्र के साथ अपने पार्टनर से रिश्ते और पक्के बनें।

 

मैनिंग कहती हैं कि आज जब परंपरागत परिवार का ढांचा बदल रहा है तो ऐसे में दोस्ती और दोस्त काफी अहम होते जा रहे हैं। वह कहती हैं कि अगर दोस्ती में भावनात्मक रिश्ता हो और पारिवारिक व सामाजिक मूल्य हों तो एक अच्छा फ्रेंड ही आपका रोमांटिक पार्टनर भी हो सकता है।

वह कहती हैं कि आज बहुत सी महिलाएं ऐसी हैं जो सीधे रोमांटिक पार्टनर नहीं चुनना चाहती हैं और न ही उन पर निर्भर रहना चाहती हैं। ऐसे में फ्रेंडशिप होने से ऐसा पार्टनर परिवार की तरह हो जाता है और ऐसा रिश्ता बेहद आसान व मजबूत हो जाता है।

 

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार, हमारे रिश्ते की शुरुआत कैसे होती है और हम कैसे इसे बनाए रखते हैं, इसे प्रभावित करने वाले दो पैमाना होता है।

पहला यह है कि हम एक-दूसरे के कितने अनुकूल हैं। इसके शुरुआती संकेतों और पहली नजर में पड़ने वाले असर को हम कितनी अहमियत देते हैं। वहीं, दूसरा पैमाना यह है कि रिश्ते में आने वाली समस्याओं को हम कैसे सुलझाते हैं?

दरअसल, हमें सच्चे प्यार में यकीन तो रहता है, मगर जब हम नए रिश्ते की शुरुआत कर रहे होते हैं तो हम इस बारे में अपने साथी से खुलकर बात नहीं करते।

 

एक स्टडी के अनुसार, दो-तिहाई रोमांटिक रिलेशनशिप की शुरुआत दोस्ती से ही होती है, जो लंबे समय से चल रही है। कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया में विक्टोरिया विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान के एसोसिएट प्रोफेसर और इस स्टडी के लेखक डेनू स्टिन्सन के मुताबिक, रिश्ते के लिए दोस्त-से-प्रेमी बनने के सफर को साइंस काफी हद तक नजरअंदाज किया है। डेनू ने इसके लिए 20 साल तक स्टडी की। उनके सवाल होते कि रोमांटिक रूप से शामिल होने से पहले क्या आपकी अपने पार्टनर के साथ दोस्ती थी?

 

2021 में सोशल साइकोलॉजिकल एंड पर्सनैलिटी साइसं जर्नल में छपी इस स्टडी में रिश्तों की शुरुआत को लेकर 4 अलग-अलग अध्ययनों को भी शामिल किया गया।

  

रिलेशनशिप कोच शिवानी मिश्री साधो कहती हैं कि आपका पार्टनर आपसे बड़े-बड़े वादे कर सकता है या सपने दिखा सकता है। आपको किसी व्यक्ति को समझने के लिए उसकी बातों के बजाय उनके एक्शन पर ध्यान देना चाहिए। जैसे कि उसका बर्ताव आपके अलावा दूसरे लोगों के साथ कैसा है। वह अपने वादों का कितना पक्का है।

 

हर इंसान में कोई न कोई खामी होती है। आपकी जिसके साथ दोस्ती है या जो आपका पार्टनर है, वो अपनी गलती मानता है या नहीं, ये देखना चाहिए। साथ ही वह बार-बार वही गलती फिर से न दोहराए। अगर वह अपनी गलती नहीं मानता है और आपकी भावनाओं को नजरअंदाज कर देता है तो इससे आप दोनों में भरोसे की दीवार टूट सकती है।

पबमेड सेंट्रल की एक रिसर्च के अनुसार, दूसरे के भरोसे को सिर्फ भावनात्मक मदद की तरह लेते हैं। अगर रिश्ते में इमोशनल सपोर्ट और भरोसा नहीं है, तो रिश्ता निभाना मुश्किल हो सकता है।

 

एक्सपर्ट के अनुसार, आप किसी भी रिश्ते में जाएं, मगर पहले समय दें। जल्दबाजी में आकर या भावनाओं में बहकर अपनी हर एक बात शेयर न करें। कई बार यही गलती रिश्ता टूटने के लिए जिम्मेदार भी होती है और आपका भरोसा टूट सकता है। किसी भी रिश्ते को समझने के लिए समय देने की जरूरत होती है। यह देखें कि सामने वाला इंसान आपकी निजता का सम्मान करता है या नहीं। अनावश्यक रूप से आपकी हर बात में दखल तो नहीं देता।

 

कुछ लोग आपसे रिश्ता फायदे के लिए बना सकते हैं। ऐसे में आंख मूंदकर उन पर भरोसा न करें। उनके बर्ताव और उनकी नीयत पर बारीकी से नजर रखनी चाहिए। यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर के मुताबिक लोगों की नीयत समझने के लिए उनके व्यवहार को काफी गहराई से समझने की जरूरत है। ऐसे में पार्टनर के बर्ताव में बदलावों पर भी नजर रखना चाहिए।

अब जरा इस दिलचस्प स्टडी के बारे में भी जानते चलें, जो दोस्ती और रोमांटिक रिलेशनशिप को कुछ अलग अंदाज में ही बताती है।

 

आम तौर पर आपने भी अपने घर या फिल्मों में ये कहते जरूर सुना होगा कि लड़का और लड़की सिर्फ दोस्त नहीं हो सकते हैं। उनका रिश्ता जरूर रोमांटिक होगा। इसी साल अगस्त में जर्नल ऑफ सोशल एंड पर्सनल रिलेशनशिप्स में छपी एक स्टडी ने भी इस पर मुहर लगाई, जिसके मुताबिक, लड़का-लड़की सिर्फ दोस्त नहीं हो सकते हैं। लड़कियों के मुकाबले लड़कों को लड़की के साथ सिर्फ दोस्त बने रहने में ज्यादा कठिनाई होती है। स्टडी के मुताबिक, लड़के अपनी फीमेल फ्रेंड्स के साथ रोमांस के अवसर ज्यादा तलाश करते हैं। वहीं, ज्यादातर लड़कियां अपने मेल फ्रेंड्स के साथ रोमांस के बारे में नहीं सोचती हैं।



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life
')