Breaking News
मौसम : भीषण गर्मी.. कही बार्ष तो कहीं लू और कड़कती धुप.. 24 मई के बाद राज्य में थोड़ी राहत मिलने की संभावना..  |  राज्य के आंगनबाड़ी केंद्र को प्री स्कूल के रूप में विकसित किया जायेगा.. विभाग ने कार्य योजना तैयार कर ली है..  |  एक भीषण गर्मी और उसमें 10 से 12 घंटे तक बिजली की कटौती... जीना मुिश्कल..  |  राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का 3 दिनाें के लिए झारखंड दाैरे... रांची में राष्ट्रपति आगमन को लेकर शहर का ट्रैफिक प्लान तैयार ..  |  देवघर में 24 मई को राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू का आगमन.. राजधानी रांची और देवघर में तैयारियां तेज..  |  दोपहर 3 बजे तक JAC बोर्ड मेट्रिक रिजल्ट घोषित कर सकता है  |  ऑनलाइन पढ़ाई के मामले में पूरे देश में झारखंड 13 वें स्थान पर..  |  शिक्षा की बरहाल स्थिति : यहां पहली से 8वीं तक के लिए सिर्फ एक शिक्षक  |  झारखंड में शिक्षा अधिकार कानूनः सरकार को भी प्राइवेट स्कूल ही पसंद हैं..  |  मणिपुर में फंसे झारखंड के छात्र एयरलिफ्ट किये जाएंगे..मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दिया निर्देश..  |  
विशेष

उमेश कुमार झा, झारखण्ड लाइफ। 26/04/2023 :
IIT धनबाद में स्टार्टअप ने कोयले से तैयार की खास ग्राफीन..इसकी परत लोहे पर चढ़ा दें तो जंग नहीं लगेगा.. चमक और आयु दाेगुने समय तकबनी रहेगी..
 
IIT धनबाद के टेक्समिन फाउंडेशन ने कोयले से ग्राफीन तैयार की है। इसकी परत अगर किसी भवन या फर्नीचर के पेंट पर चढ़ा दी जाए, ताे सामान्य के मुकाबले दाेगुने समय तक चमक बनी रहती है। अगर लाेहे पर इसकी काेटिंग कर दी जाए, ताे उसमें कभी जंग नहीं लगेगा।


IIT धनबाद के टेक्समिन (यानी टेक्नाेलाॅजी इनाेवेशन हब हन माइनिंग) फाउंडेशन ने बेहतरीन गुणवत्ता वाली ग्राफीन तैयार की है। इसकी परत अगर किसी भवन या फर्नीचर के पेंट पर चढ़ा दी जाए, ताे सामान्य के मुकाबले दाेगुने समय तक चमक बनी रहती है। अगर लाेहे पर इसकी काेटिंग कर दी जाए, ताे उसमें कभी जंग नहीं लगेगा। इस ग्राफीन काे काेयले से तैयार किया गया है, जाे धनबाद समेत विभिन्न राज्याें में प्रचूर मात्रा में उपलब्ध है।


--- इस खास उत्पाद काे टेक्समिन के स्टार्टअप मेसर्स ग्राफिनेरा प्राइवेट लिमिटेड ने बनाया है। इसके CEO सूरज प्रकाश ने बताया कि इसका उपयाेग स्पेस टेक्नाेलाॅजी और एराेप्लेन में भी कर सकते हैं। गुड कंडक्टर हाेने की वजह से इलेक्ट्राॅनिक उपकरणाें में भी उपयोग संभव है।


--- इस ग्राफीन काे बनाने की विधि और इसके लिए उपयाेग में लाई गई मशीन का पेटेंट हासिल करने के लिए कंपनी ने आवेदन भी किया है। इसे बनानेवाली टीम में शामिल IIT के पासआउट नारायण अग्निहाेत्री और शुभम पाल ने कहा कि इससे अच्छी गुणवत्ता की ग्राफीन फिलहाल कहीं नहीं बन रही है।


--- सूरज प्रकाश ने बताया कि काेयले का ही एक रूप ग्रेफाइट है। उसमें कार्बन की कई परतें हाेती हैं। उसकी एक परत ही ग्राफीन है। यह स्टील से 200 गुना मजबूत, लेकिन फिर भी काफी हल्की हाेती है।



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life
')