Breaking News
सुप्रीम कोर्ट का फैसला- राज्यसभा चुनाव में NOTA का नहीं होगा इस्तेमाल  |  सावन की चौथी और अंतिम सोमवारी आज-देवघर मंदिर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़-देर रात से ही मंदिर से मीलों लंबी लग गई थी श्रद्धालुओं की कतार  |  सावन की चौथी सोमवारी में देवघर मंदिर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़-देर रात से ही मंदिर से मीलों लंबी लग गई थी श्रद्धालुओं की कतार  |   सावन की तीसरी सोमवारी-देवघर मंदिर में उमड़ा आस्था का केसरिया सैलाब  |  जब आईएसआई चीफ हामिद गुल से मुलाकात हो गई  |  झारखंड हाईकोर्ट ने वर्तमान और पूर्व खान सचिव को तलब किया  |  JAC 10th Result 2018: जानिये झारखण्ड कक्षा 10वीं रिजल्ट से जुड़े जरुरी फैक्ट्स  |  वेतन मिलने पर काम पर लौटे 250 हड़ताली सफाईकर्मी, 14 वार्डों में काम हुआ प्रभावित  |  Jharkhand makes autopsy must in ‘starvation’ deaths, reiterates Giridih woman did not die of hunger  |  In Jharkhand, French Woman Allegedly Molested On Train  |  
मनोरंजन
TRIPURARI RAY 25/05/2018 :12:54
परमाणु: द स्टोरी ऑफ़ पोखरण एक सच्ची एतिहासिक घटना पर आधारित फिल्म है जिसपे दर्शको का ने खूब पसंद किया
Total views 174
भारतीय फ़िल्म इंडस्ट्री में ऐतिहासिक घटनाओं पर ऐसी बहुत कम फ़िल्में बनी हैं जो आधिकारिक तौर पर इतिहास पर नज़र डालती हो। कुछ फ़िल्में बंटवारे को लेकर बनी तो कुछ फ़िल्में जातिवाद को लेकर भी बनी। कुछ गिनी-चुनी फ़िल्में जैसे '26/1' या 'ब्लैक फ्राइडे' हैं जो सच्ची घटनाओं पर सिलसिलेवार नज़र डालती हैं,

परमाणु: द स्टोरी ऑफ़ पोखरण एक सच्ची एतिहासिक घटना पर आधारित फिल्म है जिसपे दर्शको का ने खूब पसंद किया

 

न्यूज़ ग्राउंड (नई दिल्ली) आकाश मिश्रा : भारतीय फ़िल्म इंडस्ट्री में ऐतिहासिक घटनाओं पर ऐसी बहुत कम फ़िल्में बनी हैं जो आधिकारिक तौर पर इतिहास पर नज़र डालती हो। कुछ फ़िल्में बंटवारे को लेकर बनी तो कुछ फ़िल्में जातिवाद को लेकर भी बनी। कुछ गिनी-चुनी फ़िल्में जैसे '26/1' या 'ब्लैक फ्राइडे' हैं जो सच्ची घटनाओं पर सिलसिलेवार नज़र डालती हैं, उसी कड़ी को आगे बढ़ाती हुई फ़िल्म है- 'परमाणु: द स्टोरी ऑफ़ पोखरण'! भारत के परमाणु विस्फोट को लेकर एक के बाद एक घटनाक्रम को रिपोर्टिंग के अंदाज़ में बयां करने वाली यह फ़िल्म सचमुच सराहनीय है। इन घटनाओं को पिरोने के लिए कुछ काल्पनिक किरदारों का सहारा ज़रूर लिया गया है लेकिन, वह मात्र घटनाओं को एक सूत्र में पिरोने के लिए है। 1974 में जब भारत ने अपने पहला परमाणु परीक्षण किया था तो उसके बाद अमेरिका की ओर से कई आर्थिक और राजनीतिक पाबंदी हम पर लगाये गये! इस दौरान सोवियत संघ के विघटन के बाद हमें किसी भी बड़े देश का साथ नहीं मिला। पाकिस्तान के साथ चीन और कई मायने में अमेरिका भारत की सुरक्षा को लेकर चिंता का विषय बनता जा रहा था। साथ ही साथ हम फिर से परमाणु परीक्षण ना कर पाये इसके लिए लगातार गुप्तचर व्यवस्थाओं का सहारा लिया जा रहा था। साथ ही अमेरिकी सैटेलाइट पोखरण रेंज पर लगातार आसमान से नज़र रखे हुए थे। ऐसे में भारत के लिए परमाणु परीक्षण करना असंभव सा था और सुरक्षा के मद्देनजर परमाणु परीक्षण करना जरूरी भी था! इस परमाणु परीक्षण को किस तरह से अंज़ाम दिया गया? किन-किन विपरीत स्थितियों में पूरी दुनिया की निगाह रखती सैटेलाइट से नज़र बचाकर परमाणु परीक्षण किया गया यही कहानी है फिल्म 'परमाणु...' की। निर्देशक अभिषेक शर्मा ने इस जटिल विषय को बहुत ही आसानी से जो एक आम आदमी को समझ में आये, इस अंदाज़ में पेश किया है! जिसमें वह पूरी तरह से सफल हुए हैं। अभिनय की बात की जाये तो जॉन अब्राहम, डायना पेंटी और बाकी के सारे कलाकारों ने उम्दा परफॉर्मेंस दिया है! एक मामले में जॉन अब्राहम की पीठ थपथपानी पड़ेगी कि निर्माता होते हुए भी उन्होंने फ़िल्म में नायक बनने की कोशिश नहीं की बल्कि, एक किरदार के तौर पर ही वह पूरी फ़िल्म में रहे। और यही इस फ़िल्म की विशेषता भी है क्योंकि, इतनी बड़ी योजना को कोई एक अकेला शख्स अंज़ाम नहीं दे सकता। टीमवर्क के क्या मायने हैं वो इस फ़िल्म में बखूबी दर्शाया गया है। इसमें कोई हीरो और कोई हीरोइन नहीं है बल्कि एक टीम है जो साथ काम करती है। 'परमाणु: द स्टोरी ऑफ़ पोखरण' एक बेहतरीन फ़िल्म है। अगर आपने पोखरण परीक्षण के बारे में नहीं पढ़ा है या नहीं जाना है तो यह फ़िल्म आपके लिए जानकारियों के नये आयाम खोलती है। सत्य घटनाओं पर आधारित होने के बावजूद भी यह फ़िल्म काफी मनोरंजक बन पड़ी है! पूरी फ़िल्म आपको कुर्सी पर दम साधे हुए बैठने पर मजबूर कर देती है और जब आप यह फ़िल्म देख कर बाहर निकलते हैं तो आप को भारतीय होने पर यकीनन गर्व महसूस होता है!

बॉलीवुड बॉक्स ऑफिस पर : पांच (5) में से चार (4) स्टार

फिल्म अवधि: 2 घंटे 8 मिनट

 



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life