Breaking News
क्या आप करते है रूम हीटर और अंगीठी का इश्तेमाल? अबतक दम घुटने से 4 दिनों में 7 की मौतें, 66 लोग पहुंचे रिम्स  |  जमाखोरों और सूदखोरों के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़ी थी निर्मल महतो ने, झारखंड के इस कद्दावर नेता की दिन दहाड़े हत्या कर दी गई थी, सीएम हेमंत सोरेन ने जयंती पर दी श्रद्धांजलि  |  झारखंड में मिले 55 पॉजिटिव, कंटेनमेंट जोन बनाने की तैयारी:रांची और कोडरमा में तेजी से फैल रहा कोरोना, हेल्थ डिपार्टमेंट अलर्ट  |  चक दे झारखण्ड: भारतीय महिला हॉकी टीम के कैंप के लिए 4 बेटियों का हुआ चयन,झारखंड के 6 खिलाड़ियों को मौका  |  झारखंड दे रहा देश को दिशा: झारखंड की दीदी बगिया योजना व सखी मंडल गतिविधियों को दूसरे राज्य भी करें लागू : एनएन सिन्हा   |  लड़कियों की शादी की उम्र बढ़ाने का विरोध:झारखंड के मंत्री ने कहा- बढ़ाने के बजाय कम करनी चाहिए उम्र, UP के सपा सांसद बोले- आवारगी करेंगी लड़कियां  |  धनबाद में जज हत्या मामला: हाईकोर्ट ने कहा- CBI डायरेक्टर को बुला कर ही सवाल पूछना होगा, परिणाम की जगह केवल रिपोर्ट मिल रहा  |  Karnataka Congress MLA’s “enjoy rape” remark controversy and reactions  |  बैंक कर्मियों के हड़ताल: कोडरमा-चतरा जिले में 230 करोड़ का कारोबार प्रभावित  |  20 दिसंबर के बाद झारखंड में बढ़ेगी ठंड: कश्मीर की बर्फीली हवा राज्य में बढ़ाएगी कनकनी, दो दिन बाद बारिश के आसार  |  
क्षेत्रीय

Kriti Verma 17/12/2021 :
बैंक कर्मियों के हड़ताल: कोडरमा-चतरा जिले में 230 करोड़ का कारोबार प्रभावित
 
राष्ट्रीयकृत बैंक के निजीकरण के विरोध में यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (यूएफबीयू) के आह्वान पर बैंककर्मी दो दिनों की हड़ताल पर चले गए हैं। बैंकों में ताले लटक गए है।

 राष्ट्रीयकृत बैंक के निजीकरण के विरोध में यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (यूएफबीयू) के आह्वान पर बैंककर्मी दो दिनों की हड़ताल पर चले गए हैं। बैंकों में ताले लटक गए है। पहले दिन, गुरुवार को शहर के बैंक ऑफ इंडिया शाखा सहित सभी बैंक के समक्ष कर्मियों ने जोरदार प्रदर्शन किया और जुलूस भी निकाला।

जुलूस बैंक ऑफ इंडिया परिसर से प्रारंभ हुई, जो झंडा चौक तक पहुंची, जुलूस के माध्यम से कर्मियों ने बैंकों के प्रस्तावित निजीकरण व बैंकिंग कानून संशोधन बिल के विरोध में जमकर नारेबाजी की और शीघ्र इस प्रस्ताव को वापस लेने की मांग की गई। हड़ताल में जिले के लगभग 60 बैंकों के करीब 200 कर्मी शामिल है। हड़ताल के कारण पहले दिन करीब 150 करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ है।

हड़ताल में माैके पर कर्मियों ने बीओआई झुमरीतिलैया शाखा के समक्ष जमकर नारेबाजी करते हुए निजीकरण को वापस लने की मांग की। मौके पर यूनाईटेड फोरम के एक्जीक्युटिव मेंबर शिव कुमार ने कहा कि राष्ट्रीयकृत बैंकों का निजीकरण बिल को शीघ्र वापस लिया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार इस बिल को वापस नहीं लेती है तो बैंक कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने को मजबूर होंगे।

उन्होंने कहा कि बैंकों के निजीकरण से जनता की गाढ़ी कमाई पूंजीपतियों के हाथों में भेजने की साजिश है। उन्होंने कहा कि सरकार बिल को वापस नहीं ली तो आंदोलन को तेज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार बैंकिंग व्यवस्था को कमजोर करने की नीति पर कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि बैंकों के निजीकरण से जहां बैंक कर्मियों व लोगो के हितों की अनदेखी होगी।

वहीं बैंकिंग व्यवस्था आर्थिक रूप से सशक्त होने के बजाए कॉरपोरेट घरानों के हितकर बन कर रह जाएगी। मौके पर शिवशंकर वर्णवाल, मनीष कुमार, राजेश कुमार, राजू सिंह, देवनंदन ठाकुर, उपासना कुमारी, विनिता कुमारी सहित अन्य लोग मौजूद थे।

हड़ताल का समर्थन करते हुए गुरुवार को एलआईसी कार्यालय के मुख्य द्वार पर भोजनावकाश के दौरान बीमा कर्मियों ने प्रदर्शन किया अखिल भारतीय बीमा कर्मचारी संघ के तत्वाधान मे बीमा कर्मचारी संघ हजारीबाग मण्डल की झुमरीतिलैया इकाई ने देश भर के 10 लाख बैंक अधिकारी व कर्मचारियों के संगठन यूएफबीयू के आह्वान पर 16 व 17 दिसंबर को सरकारी उपक्रम के बैंकों के प्रस्तावित निजीकरण व बैंकिंग कानून संशोधन बिल के विरोध में और सरकारी बैंकों के मजबूतीकरण के न्यायोचित मांगों को लेकर आहूत हड़ताल का समर्थन करते हुए गुरुवार को एलआईसी कार्यालय के मुख्य द्वार पर भोजनावकाश के दौरान बीमा कर्मियों ने प्रदर्शन किया।

प्रदर्शन के दौरान कर्मियों ने सरकार के जन विरोधी नीतियों की भर्त्सना की। मौके पर बीमा कर्मचारी संघ झुमरीतिलैया के सचिव मनोरंजन कुमार ने कहा कि सरकारी उपक्रम के बैंक भारत की अर्थ व्यवस्था की जीवन रेखा हैं। सभा की अध्यक्षता महावीर यादव ने किया। मौके पर सुनील कुमार, श्रीकांत ,अलीशा,संजय सिंह,अजय सिंह, श्रेया,राजेन्द्र प्रसाद, राम कुमार,पंकज,टिंकु ,स्वेता,सुधीर कुमार, स्नेहा, कृष्णा कुमार,कृष्णम,कुमार अशोक सहित अन्य कर्मी मौजूद थे।



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life