Breaking News
क्या आप करते है रूम हीटर और अंगीठी का इश्तेमाल? अबतक दम घुटने से 4 दिनों में 7 की मौतें, 66 लोग पहुंचे रिम्स  |  जमाखोरों और सूदखोरों के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़ी थी निर्मल महतो ने, झारखंड के इस कद्दावर नेता की दिन दहाड़े हत्या कर दी गई थी, सीएम हेमंत सोरेन ने जयंती पर दी श्रद्धांजलि  |  झारखंड में मिले 55 पॉजिटिव, कंटेनमेंट जोन बनाने की तैयारी:रांची और कोडरमा में तेजी से फैल रहा कोरोना, हेल्थ डिपार्टमेंट अलर्ट  |  चक दे झारखण्ड: भारतीय महिला हॉकी टीम के कैंप के लिए 4 बेटियों का हुआ चयन,झारखंड के 6 खिलाड़ियों को मौका  |  झारखंड दे रहा देश को दिशा: झारखंड की दीदी बगिया योजना व सखी मंडल गतिविधियों को दूसरे राज्य भी करें लागू : एनएन सिन्हा   |  लड़कियों की शादी की उम्र बढ़ाने का विरोध:झारखंड के मंत्री ने कहा- बढ़ाने के बजाय कम करनी चाहिए उम्र, UP के सपा सांसद बोले- आवारगी करेंगी लड़कियां  |  धनबाद में जज हत्या मामला: हाईकोर्ट ने कहा- CBI डायरेक्टर को बुला कर ही सवाल पूछना होगा, परिणाम की जगह केवल रिपोर्ट मिल रहा  |  Karnataka Congress MLA’s “enjoy rape” remark controversy and reactions  |  बैंक कर्मियों के हड़ताल: कोडरमा-चतरा जिले में 230 करोड़ का कारोबार प्रभावित  |  20 दिसंबर के बाद झारखंड में बढ़ेगी ठंड: कश्मीर की बर्फीली हवा राज्य में बढ़ाएगी कनकनी, दो दिन बाद बारिश के आसार  |  
राष्ट्रीय

Kriti Verma 11/12/2021 :
किसानों का विजय मार्च आज, 15 महीने के संघर्ष के बाद 'जीतकर' लौट रहे घर
 
तीन कानूनों को रद्द करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद, किसान अन्य मांगों का हवाला देते हुए विरोध स्थलों पर रुके हुए थे, जिसमें न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानूनी गारंटी और विरोध करने वाले किसानों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेना शामिल था.

 

दिल्ली के सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर 15 महीनों से डेरा डाले हुए किसान शनिवार आज आंदोलन खत्म करके पंजाब और हरियाणा में अपने घरों को लौटेंगे. इसे दौरान वे विजय मार्च निकालेंगे. किसानों के आंदोलन ने केंद्र सरकार को तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए मजबूर कर दिया था.


आंदोलन खत्म होने के बाद किसान अब प्रदर्शनस्थल से अपने अस्थाई आवास हटा रहे हैं. आंदोलन को दौरान किसानों को कभी 'आतंकी' तो कभी 'खालिस्तानी' तक करार दिया गया, लेकिन किसानों ने अपना हौसला नहीं खोया और सरकार को उनके सामने कानून वापस लेने को सरकार को मजबूर होना पड़ा.

बताया जा रहा है कि ट्रैक्टरों पर घर जाने वाले किसानों को बधाई देने के लिए हाइवे के किनारे विशेष व्यवस्था की गई है.

शुरुआत में विजय मार्च की योजना शुक्रवार के लिए बनाई गई थी, लेकिन तमिलनाडु में हेलिकॉप्टर दुर्घटना के चलते इसे स्थगित कर दिया गया था, जिसमें चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ(CDS) जनरल बिपिन रावत सहित 13 लोग मारे गए थे.

तीन कानूनों को रद्द करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद, किसान अन्य मांगों का हवाला देते हुए विरोध स्थलों पर रुके हुए थे, जिसमें न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानूनी गारंटी और विरोध करने वाले किसानों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेना शामिल था.

आंदोलन की अगुवाई कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा की पांच सदस्यीय समिति को बाकि मांगों पर केंद्र द्वारा लिखित प्रस्ताव भेजे जाने के बाद ही किसानों ने वापस लौटने के अपने फैसले का ऐलान किया. केंद्र एमएसपी(MSP) मुद्दे पर फैसला करने के लिए एक समिति बनाने पर सहमत हो गया है.

 समिति में सरकारी अधिकारी, कृषि विशेषज्ञ और किसान मोर्चा के प्रतिनिधि शामिल होंगे. सरकार किसानों के खिलाफ सभी पुलिस केस रद्द करने के लिए भी सहमत हो गई है, ये मामले हरियाणा और उत्तर प्रदेश पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज किए थे. 

किसान मोर्चा द्वारा विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई 700 किसानों की मौत के मुआवजे की मांग पर केंद्र ने कहा है कि हरियाणा और उत्तर प्रदेश ने सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है और पंजाब पहले ही घोषणा कर चुका है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बाकि मुद्दों पर चर्चा के लिए किसान नेताओं से फोन पर बात करने के बाद केंद्र का प्रस्ताव आया था.




झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life