Breaking News
क्या आप करते है रूम हीटर और अंगीठी का इश्तेमाल? अबतक दम घुटने से 4 दिनों में 7 की मौतें, 66 लोग पहुंचे रिम्स  |  जमाखोरों और सूदखोरों के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़ी थी निर्मल महतो ने, झारखंड के इस कद्दावर नेता की दिन दहाड़े हत्या कर दी गई थी, सीएम हेमंत सोरेन ने जयंती पर दी श्रद्धांजलि  |  झारखंड में मिले 55 पॉजिटिव, कंटेनमेंट जोन बनाने की तैयारी:रांची और कोडरमा में तेजी से फैल रहा कोरोना, हेल्थ डिपार्टमेंट अलर्ट  |  चक दे झारखण्ड: भारतीय महिला हॉकी टीम के कैंप के लिए 4 बेटियों का हुआ चयन,झारखंड के 6 खिलाड़ियों को मौका  |  झारखंड दे रहा देश को दिशा: झारखंड की दीदी बगिया योजना व सखी मंडल गतिविधियों को दूसरे राज्य भी करें लागू : एनएन सिन्हा   |  लड़कियों की शादी की उम्र बढ़ाने का विरोध:झारखंड के मंत्री ने कहा- बढ़ाने के बजाय कम करनी चाहिए उम्र, UP के सपा सांसद बोले- आवारगी करेंगी लड़कियां  |  धनबाद में जज हत्या मामला: हाईकोर्ट ने कहा- CBI डायरेक्टर को बुला कर ही सवाल पूछना होगा, परिणाम की जगह केवल रिपोर्ट मिल रहा  |  Karnataka Congress MLA’s “enjoy rape” remark controversy and reactions  |  बैंक कर्मियों के हड़ताल: कोडरमा-चतरा जिले में 230 करोड़ का कारोबार प्रभावित  |  20 दिसंबर के बाद झारखंड में बढ़ेगी ठंड: कश्मीर की बर्फीली हवा राज्य में बढ़ाएगी कनकनी, दो दिन बाद बारिश के आसार  |  
विशेष

Kriti Verma 09/12/2021 :
झारखंड के वीर-सपूत को श्रद्धांजलि देने आए थे जनरल बिपिन रावत:परमवीर अल्बर्ट एक्का के सम्मान में पत्नी संग खिंचे चले आए थे
 
अल्बर्ट एक्का की जन्म भूमि पर पहुंचे जनरल रावत और उनकी पत्नी का जनता ने जोरदार स्वागत किया था। उनकी एक झलक पाने के लिए लोग बेताब थे। गुमला के अलावा रांची, सिमडेगा, लोहरदगा, पलामू जिला से लोग उन्हें देखने पहुंचे थे। इनमें वीर चक्र, शौर्य चक्र, कृति चक्र से सम्मानित शहीदों की पत्नियां भी शामिल थीं।

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत की मौत की खबर ने पूरे देश के साथ-साथ झारखंड को भी झकझोर कर रख दिया है। सेना में बीरा के नाम से चर्चित रहे जनरल रावत के साथ राज्य के लोगों की गहरी संवेदनाएं जुड़ी हुई थी। 

बतौर सेनाध्यक्ष उनका गुमला दौरा लोगों के दिल-ओ-दिमाग में बसा हुआ है। 4 जनवरी 2019 को सेनाध्यक्ष के रूप में जनरल झारखंड के बहादुर बेटे परमवीर अल्बर्ट एक्का की वीर गाथाओं से प्रभावित होकर उनके सम्मान में खिंचे चले आए थे। अपनी पत्नी के साथ चैनपुर प्रखंड स्थित बरवे मैदान पहुंचे और अल्बर्ट एक्का को श्रद्धांजलि अर्पित की थी।

अल्बर्ट एक्का की जन्म भूमि पर पहुंचे जनरल रावत और उनकी पत्नी का जनता ने जोरदार स्वागत किया था। उनकी एक झलक पाने के लिए लोग बेताब थे। गुमला के अलावा रांची, सिमडेगा, लोहरदगा, पलामू जिला से लोग उन्हें देखने पहुंचे थे। इनमें वीर चक्र, शौर्य चक्र, कृति चक्र से सम्मानित शहीदों की पत्नियां भी शामिल थीं। कार्यक्रम में सेनाध्यक्ष और उनकी पत्नी ने सबसे मुलाकात की। बातचीत की। अपने परिवार की तरह हर एक से हाथ मिलाते हुए अपना बनाते गए।

कार्यक्रम के दौरान तात्कालीन सेनाध्यक्ष ने लोगों को अनुशासन व स्वच्छता का पाठ पढ़ाया था। पूरे कार्यक्रम के दौरान रावत डयूटी में तैनात सेना के जवानों, अधिकारियों और लोगों से पूरी आत्मीयता के साथ बातचीत करते रहे थे। भाषण खत्म होने के बाद वह सीधे मंच से नीचे उतर कर पैदल चलते हुए लोगों के बीच से गुजरे। इस दौरान काफी लोगों ने तत्कालीन सेनाध्यक्ष के साथ सेल्फी ली थी। कार्यक्रम में दौरान जनरल बिपिन रावत ने परमवीर अल्बर्ट एक्का की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया था। सलामी ली थी। उनके बलिदान को याद किया था।

रावत एक नेक व जिंदा दिल इंसान थे : विंसेंट

इधर, जनरल रावत के निधन की खबर मिलते ही शहीद अल्बर्ट एक्का के परिवार में शोक की लहर दौड़ पड़ी। परमवीर अल्बर्ट एक्का के बेटा विंसेंट एक्का ने कहा, 'बिपिन रावत एक नेक और जिंदा दिल इंसान थे। उन्हें तनिक भी अपने ओहदे का गुमान नहीं था।'



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life