Breaking News
केरल पहुंचा मॉनसून, झमाझम बारिश शुरू, जानें झारखंड में कब पहुंचेगा मॉनसून  |  लद्दाख में झारखंड का लाल सड़क हादसे में शहीद  |  चौथे चरण में शांतिपूर्वक तरीके से चल रहा मतदान  |  कैसे गिरी थी बाबरी मस्जिद: आँखों देखी लाइव रिपोर्ट  |  Jharkhand Corona Update: WHO और राज्य सरकार के अध्ययन के मुताबिक कोविड से मरने वाले 55% लोग गरीबी रेखा से नीचे के  |  पुतिन-मोदी मुलाकात LIVE: रूसी राष्ट्रपति ने कहा- भारत महान शक्ति और भरोसेमंद दोस्त; दोनों देशों के बीच 6 सेक्टर्स में समझौते संभव  |  माओवादियों ने लगाए पोस्टर लिखा: RSS के निर्देश पर केंद्र सरकार किसान,मजदूर, नौजवान व मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर कर रही हमले, विरोध का ऐलान  |  दिल्ली पहुंचा ओमिक्रॉन:तंजानिया से लौटे यात्री में मिला संक्रमण, देश में 4 दिन में नए वैरिएंट के 5 केस सामने आए  |  हिंदपीढ़ी के युवक मुजाहिद को मारी गई गोली, आक्रोशित लोगों ने हमले के आरोपी का घर जलाया, एक युवक गिरफ्तार  |  वैक्सीनेशन की प्रक्रिया पर ब्रेक: अवकाश नहीं मिलने से नाराज स्वास्थ्य कर्मियों ने पुराना सदर अस्पताल प्रांगण में विरोध प्रदर्शन किया  |  
क्षेत्रीय
06/12/2021 :
Jharkhand Corona Update: WHO और राज्य सरकार के अध्ययन के मुताबिक कोविड से मरने वाले 55% लोग गरीबी रेखा से नीचे के
 
'ओमीक्रॉन' की आशंका के बीच झारखंड में हैरान करने वाला एक खुलासा हुआ है। इसके मुताबिक यहां कोरोना से मरने वालों में आधे से अधिक (55%) या तो गरीबी रेखा से नीचे जीवन बसर करते थे, या उनके पास आयुष्मान भारत के कार्ड नहीं थे।

कोरोना की तीसरी लहर 'ओमीक्रॉन' की आशंका के बीच झारखंड में हैरान करने वाला एक खुलासा हुआ है। इसके मुताबिक यहां कोरोना से मरने वालों में आधे से अधिक (55%) या तो गरीबी रेखा से नीचे जीवन बसर करते थे, या उनके पास आयुष्मान भारत के कार्ड नहीं थे। 

इतना ही नहीं रिपोर्ट में कहा गया है कि मरने वालों में 66 प्रतिशत अकुशल मजदूर थे। इस संबंध में राज्य में कोरोना से हुई मौतों पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) व राज्य सरकार की तरफ से अध्ययन किया गया था। इसके तहत कोरोना से मरने वालों की सामाजिक आर्थिक स्थिति का पता लगाने के लिए IPDS के साथ WHO के प्रतिनिधियों ने राज्य के 11 जिलों में अधय्ययन किया है।

इसमें 15 सामाजिक आर्थिक मापदंडों पर किए गए अध्ययन की रिपोर्ट नेशनल हेल्थ मिशन (NHM) झारखंड की ओर से जारी की गई है। जिसमें कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं।

62.2 % मृतकों की आय 10000 से कम
झारखंड में कोरोना से जान गंवाने वालों में 35.4 फीसदी की मासिक आमदनी 4000 रुपए सेकम थी। जबकि, ओवरऑल 62.2 प्रतिशत मरनेवालों की मासिक आमदनी 10000 से कम थी।

इन जिलों को अध्ययन में किया गया था शामिल
चतरा, पूर्वी सिंहभूम, गढ़वा, गुमला, हजारीबाग, कोडरमा, लोहरदगा, साहिबगंज, सरायकेला, सिमडेगा व पश्चिमी सिंहभूम में एक रैंडम सर्वेक्षण (सोसियो इकोनोमिक एनालिसिस ऑफ कोविड डेथ इन झारखंड) किया है।

5141 लोगों की हुई है मौत
झारखंड में अभी तक कोरोना से 5141 लोगों की मौत हुई है। इसमें सबसे ज्यादा 1585 मौतें रांची में हुई हैं। जबकि सबसे कम 12 मौतें पाकुड़ में हुई हैं। वहीं चतरा में 53, पूर्वी सिंहभूम 1048, गढ़वा में 94, गुमला में 38, हजारीबाग में 186, कोडरमा में 136, लोहरदगा में 88, साहिबगंज में 42, सरायकेला में 67 सिमडेगा में 92 और पश्चिमी सिंहभूम में 133 लोगों की मौत कोरोना से हुई है।



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life