Breaking News
पीएम मोदी ने देवघर एयरपोर्ट का किया उदघाटन, करोड़ो रूपये के योजनाओं का किया शिलान्यास  |  केरल पहुंचा मॉनसून, झमाझम बारिश शुरू, जानें झारखंड में कब पहुंचेगा मॉनसून  |  लद्दाख में झारखंड का लाल सड़क हादसे में शहीद  |  चौथे चरण में शांतिपूर्वक तरीके से चल रहा मतदान  |  कैसे गिरी थी बाबरी मस्जिद: आँखों देखी लाइव रिपोर्ट  |  Jharkhand Corona Update: WHO और राज्य सरकार के अध्ययन के मुताबिक कोविड से मरने वाले 55% लोग गरीबी रेखा से नीचे के  |  पुतिन-मोदी मुलाकात LIVE: रूसी राष्ट्रपति ने कहा- भारत महान शक्ति और भरोसेमंद दोस्त; दोनों देशों के बीच 6 सेक्टर्स में समझौते संभव  |  माओवादियों ने लगाए पोस्टर लिखा: RSS के निर्देश पर केंद्र सरकार किसान,मजदूर, नौजवान व मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर कर रही हमले, विरोध का ऐलान  |  दिल्ली पहुंचा ओमिक्रॉन:तंजानिया से लौटे यात्री में मिला संक्रमण, देश में 4 दिन में नए वैरिएंट के 5 केस सामने आए  |  हिंदपीढ़ी के युवक मुजाहिद को मारी गई गोली, आक्रोशित लोगों ने हमले के आरोपी का घर जलाया, एक युवक गिरफ्तार  |  
क्षेत्रीय
05/12/2021 :
वैक्सीनेशन की प्रक्रिया पर ब्रेक: अवकाश नहीं मिलने से नाराज स्वास्थ्य कर्मियों ने पुराना सदर अस्पताल प्रांगण में विरोध प्रदर्शन किया
 
स्वास्थ्य कर्मियों के आंदोलन के कारण वैक्सीनेशन की प्रक्रिया पर पड़े प्रभाव के बारे में सिविल सर्जन ने कहा कि देरशाम रिपोर्ट आने के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। झारखंड राज्य NRHM,ANM,GNM अनुबंध कर्मचारी संघ के बैनर तले स्वास्थ्य कर्मियों ने रविवार को आंदोलन की शुरुआत कर दी।

कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका के बीच रविवार को झारखंड के पाकुड़ जिले में वैक्सीनेशन की प्रक्रिया पर ब्रेक लग गया। रविवार को अवकाश नहीं मिलने से नाराज स्वास्थ्य कर्मियों ने रविवार की सुबह पुराना सदर अस्पताल प्रांगण में विरोध प्रदर्शन किया। धरना दिया।

 इसमें NRHM,ANM,GNM,MPW ने हिस्सा लिया। सदर प्रखंड के अलावा अमड़ापाड़ा, पाकुड़िया लिट्टीपाड़ा, महेशपुर और हिरणपुर में किया गया। सिविल सर्जन डा. रामदेव पासवान ने रविवार को बताया कि कुछ लोगों को कहना था कि वह रविवार को वैक्सीनेशन का कार्य नहीं करेंगे। हालांकि इस बारे में किसी ने कोई लिखित सूचना नहीं दी। 

स्वास्थ्य कर्मियों के आंदोलन के कारण वैक्सीनेशन की प्रक्रिया पर पड़े प्रभाव के बारे में सिविल सर्जन ने कहा कि देरशाम रिपोर्ट आने के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। झारखंड राज्य NRHM,ANM,GNM अनुबंध कर्मचारी संघ के बैनर तले स्वास्थ्य कर्मियों ने रविवार को आंदोलन की शुरुआत कर दी। 

संघ के अध्यक्ष मर्शिला टुडू ने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों के साथ अन्याय हो रहा है। कोविड काल में ईमानदारी पूर्वक काम करने के बाद भी राहत नहीं मिल रही है। रविवारीय अवकाश के लिए सिविल सर्जन, DC से कई बार आग्रह किया गया। कोई सुनवाई नहीं हुई। बाध्य होकर स्वास्थ्य कर्मियों को आंदोलन करना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों को सप्ताह में एक दिन भी अवकाश नहीं दिया जा रहा है। वर्तमान में कोविड 19 की लहर स्थिर है। इसके बाद भी रविवार को काम लिया जा रहा है। रोशा तिग्गा ने कहा कि कोविड के पूर्व स्वास्थ्य कर्मियों को रविवारीय अवकाश मिलता था। कोविड काल में सातों दिन काम लिया गया। एएनएम, जीएनएम, एमपीडब्ल्यू सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मी जान पर खेलकर दिन-रात लोगों की सेवा की। अब जब कोरोना संक्रमण नियंत्रण में है तो भी रविवार को अवकाश नहीं मिल रहा है। इस पर विभाग को विचार करना चाहिए।



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life