Breaking News
पीएम मोदी ने देवघर एयरपोर्ट का किया उदघाटन, करोड़ो रूपये के योजनाओं का किया शिलान्यास  |  केरल पहुंचा मॉनसून, झमाझम बारिश शुरू, जानें झारखंड में कब पहुंचेगा मॉनसून  |  लद्दाख में झारखंड का लाल सड़क हादसे में शहीद  |  चौथे चरण में शांतिपूर्वक तरीके से चल रहा मतदान  |  कैसे गिरी थी बाबरी मस्जिद: आँखों देखी लाइव रिपोर्ट  |  Jharkhand Corona Update: WHO और राज्य सरकार के अध्ययन के मुताबिक कोविड से मरने वाले 55% लोग गरीबी रेखा से नीचे के  |  पुतिन-मोदी मुलाकात LIVE: रूसी राष्ट्रपति ने कहा- भारत महान शक्ति और भरोसेमंद दोस्त; दोनों देशों के बीच 6 सेक्टर्स में समझौते संभव  |  माओवादियों ने लगाए पोस्टर लिखा: RSS के निर्देश पर केंद्र सरकार किसान,मजदूर, नौजवान व मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर कर रही हमले, विरोध का ऐलान  |  दिल्ली पहुंचा ओमिक्रॉन:तंजानिया से लौटे यात्री में मिला संक्रमण, देश में 4 दिन में नए वैरिएंट के 5 केस सामने आए  |  हिंदपीढ़ी के युवक मुजाहिद को मारी गई गोली, आक्रोशित लोगों ने हमले के आरोपी का घर जलाया, एक युवक गिरफ्तार  |  
महिला जगत
22/11/2021 :
मानव तस्करी की शिकार रह चुकी झारखंड की बेटियों को राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष बनकर फैसला सुनाने का अवसर
 
नई दिल्ली में रविवार को बाल अधिकार और बाल सुरक्षा विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में मानव तस्करी और बाल तस्करी की शिकार रह चुकी झारखंड की चार बेटियों को शामिल होने का मौका मिला। इनको बाल कल्याण संघ के प्रयास से प्रशिक्षित कर आत्मसम्मान से खड़ा होना सिखाया गया है। ये लड़कियां महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार व राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की ओर से आयोजित आजादी का महोत्सव कार्यक्रम में हिस्सा लेने गई हैं।

मानव तस्करी और बाल तस्करी की शिकार रह चुकी झारखंड की चार बेटियों को एक दिन के लिए राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष व सदस्य बनकर फैसला सुनाने का अवसर दिया जाएगा। यह ऐलान रविवार को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने किया।

नई दिल्ली में रविवार को बाल अधिकार और बाल सुरक्षा विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में मानव तस्करी और बाल तस्करी की शिकार रह चुकी झारखंड की चार बेटियों को शामिल होने का मौका मिला। इनको बाल कल्याण संघ के प्रयास से प्रशिक्षित कर आत्मसम्मान से खड़ा होना सिखाया गया है। ये लड़कियां महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार व राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की ओर से आयोजित आजादी का महोत्सव कार्यक्रम में हिस्सा लेने गई हैं।

इस लड़कियों में बसंती कच्छप, शशि शानी सुंडी, प्रतिमा कुमारी और देवंती कुमारी शामिल हैं। बालिक हो चुकी अब ये सभी लड़कियां सुरक्षा एजेंसी में गार्ड की नौकरी कर रही हैं। बाल तस्करी से पीड़ित रह चुकी झारखंड की चार लड़कियों को दिल्ली में आयोजित सेमनार में शामिल होने का मौका मिला।

सेमिनार के दौरान स्मृति ईरानी ने ऐलान किया कि खुद को बाल तस्करों के दलदल से निकालकर झारखंड की ये बेटियां देश को मानव तस्करी से बचाव के लिए प्रेरित कर रही हैं। केंद्रीय मंत्री ने झारखंड की इन बेटियों को मंत्रालय में एक दिन के भोज के लिए भी आमंत्रित किया है।

 बीकेएस के सचिव संजय मिश्र ने बताया कि राष्ट्रीय बाल आयोग के दिशा-निर्देश पर राष्ट्रीय कार्यशाला में भाग लेने के लिए इन बालिकाओं का चयन हुआ था। जिन्होंने केंद्रीय मंत्री व आयोग के अध्यक्ष से मिलकर झारखंड में मानव तस्करी की समस्याओं से अवगत कराया। मौके पर आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो, बीकेएस के प्रमोद कुमार वर्मा, ज्योति सिंह सहित अन्य मौजूद थे। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- तस्करों के दलदल से खुद को बचाकर देशभर की बालिकाओं को प्रेरणा दे रहीं हैं ये लड़कियां।



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life