Breaking News
मुरी रेलवे स्टेशन पर नॉन इंटरलाकिंग कार्य की वजह से रांची से 4 जोड़ी ट्रेनें अगले 7 दिनों तक रद्द रहेंगी।   |  झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ. रवि रंजन ने मंगलवार को जस्टिस सुभाष चांद को शपथ दिलाई।  |  बिहार में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने शुक्रवार को केन्द्र सरकार पर आरोप लगाया कि वह झारखंड के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है जिसे कदापि बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।  |  पाकिस्तान ने भारत को 10 विकेट से हराया  |  द हंस फाउंडेशन ने 5 करोड़ का सहयोग दिया।  |  केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने शनिवार को राज्य सरकार पर बड़ा आरोप लगाया  |  जमशेदपुर में साकची और बिस्टुपुर में छिनतई करने वाले दो बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।   |  इंग्लैंड ने 2016 के फाइनल मुकाबले का लिया बदला, विंडीज को 6 विकेट से दी शिकस्त  |  आ गई वर्ल्ड कप में महामुकाबले की घड़ी  |  आम आदमी पार्टी प्रमुख एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अगले सप्ताह अयोध्या जाने वाले हैं।  |  
राष्ट्रीय

TRIPURARI RAY 13/06/2018 :
सुल्तानपुर गउशाला में सडक़ के विरोध में डीसी को ज्ञापन
Total views 969
गुरुग्राम गुरुग्राम की सुल्तानपुर गउशाला में बीच से निकाली जा रही सडक़ के विरोध में मंगलवार को गउशाला कमेटी के सदस्य एवं शहर के बुद्विजीवी लोगों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम पर डीसी को ज्ञापन सौंपा।

लोगों ने इसका विरोध करते हुए सरकार से इस अधिग्रहण को वापस लेने व गउशाला को उजाडऩे से बचाने की मांग की है। गउशाला कमेटी के सदस्यों का कहना है कि गउशाला गुरुग्राम एक प्राचीन गउशाला है जिसका निर्माण 1906 में हुआ था। गुरुग्राम गउशाला में गौ की संख्या अधिक होने तथा जगह की परेशानी के चलते ग्राम सुलतानपुर (फरूखनगर) में करोड़ों रुपये की लागत से वर्षों पहले गउशाला का विस्तार किया गया था जो आज भी प्रदेश की प्रमुख गउशालाओं में से एक है। इसमें आज भी लगभग 1500 से अधिक गउ की संख्या है और इसकी गउशाला कमेटी द्वारा बहुत अच्छी देख-रेख की जाती है। 2013 में नये भूमि अधिग्रहण के तहत तत्कालीन सरकार ने 31/ 12/2013 में गऊ शाला को भूमि अधिनियम के सैकशन 4 के नोटिस जारी किए जो कि वास्तव मे हर तरीके से गलत है व गैर कानूनी है जिस दिन ये नोटिफिकेशन हुआ उस दिन प्रदेश मे नया भुमि अधिनियम कानून लागू हो गया था। प्रशासनिक अधिकारियों की मिली भगत के चलते जान बूझकर इसे दिनांक 31/12/ 2013 में दिखाया गया ताकी इसे ठीक माना जाये। यह नोटिफिकेशन सैक्टर-1 फरूखनगर के लिए किया गया था जिसमें दिसम्बर 2014 मे सेक्शन 6 का नोटिस दिया गया था। यह पूरी तरह से गैर कानूनी था बाद मे अपनी गलती का एहसास होने पर हुड्डा विभाग ने लगभग 16 एकड़ को छोडकऱ बाकी समस्त भूमि को डिनोटिफिकेशन कर अधिग्रहण से मुक्त कर दिया गया। लेकिन उसमे से सुल्तानपुर गांव कि लगभग 4 एकड़ जमीन अधिग्रहण की जिस मे गऊशाला के सभी पक्के शेड व कर्मचारियों के कमरे, एक बड़ा गेट जो कि अधिग्रहण कि कारवाई से पहले बने हुए है उन को एनवायरनमेंट मे दिखाया गया है। प्रशासन गऊ शाला के भवन को तोडकर कोई सडक़ बनाने पर विचार कर रहे है। जबकि गउशाला के साथ लगी जमीन को अधिग्रहण नही किया जा रहा है। प्रशासन गलत नीतियों के चलते इस  गउशाला को तोडऩे पर उतारू है। यह किसी भी तरीके से जनहित में नहीं है। यह निर्णय सैकड़ों गउभक्त एवं गउशाला में आस्था रखने वाले लोगों की विचारधारा के बिल्कुल खिलाफ है। मुख्यमंत्री से मांग है कि जनहित में मामले पर संज्ञान लेते हुए गउशाला को तोडऩे से बचाए।



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life