Breaking News
पीएम मोदी ने देवघर एयरपोर्ट का किया उदघाटन, करोड़ो रूपये के योजनाओं का किया शिलान्यास  |  केरल पहुंचा मॉनसून, झमाझम बारिश शुरू, जानें झारखंड में कब पहुंचेगा मॉनसून  |  लद्दाख में झारखंड का लाल सड़क हादसे में शहीद  |  चौथे चरण में शांतिपूर्वक तरीके से चल रहा मतदान  |  कैसे गिरी थी बाबरी मस्जिद: आँखों देखी लाइव रिपोर्ट  |  Jharkhand Corona Update: WHO और राज्य सरकार के अध्ययन के मुताबिक कोविड से मरने वाले 55% लोग गरीबी रेखा से नीचे के  |  पुतिन-मोदी मुलाकात LIVE: रूसी राष्ट्रपति ने कहा- भारत महान शक्ति और भरोसेमंद दोस्त; दोनों देशों के बीच 6 सेक्टर्स में समझौते संभव  |  माओवादियों ने लगाए पोस्टर लिखा: RSS के निर्देश पर केंद्र सरकार किसान,मजदूर, नौजवान व मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर कर रही हमले, विरोध का ऐलान  |  दिल्ली पहुंचा ओमिक्रॉन:तंजानिया से लौटे यात्री में मिला संक्रमण, देश में 4 दिन में नए वैरिएंट के 5 केस सामने आए  |  हिंदपीढ़ी के युवक मुजाहिद को मारी गई गोली, आक्रोशित लोगों ने हमले के आरोपी का घर जलाया, एक युवक गिरफ्तार  |  
विशेष
03/06/2018 :16:57
क्या है इलाहाबाद में छह सौ पुलिसकर्मी की नियुक्ति निश्चिन्त ना हो पाने का राज , बिना ड्यूटी के ले रहे वेतन !
 

क्या है इलाहाबाद में छह सौ पुलिसकर्मी की नियुक्ति निश्चिन्त ना हो पाने का राज , बिना ड्यूटी के ले रहे वेतन !

           

 न्यूज़ ग्राउंड (इलाहाबाद) आकाश मिश्रा :  इलाहाबाद में करीब छह सौ पुलिसकर्मी नियुक्ति निश्चिन्त नही है  हैं। हैरत की बात यह है कि उनकी तनख्वाह तो बन रही है लेकिन तैनाती कहां है, वह क्या-क्या काम कर रहे हैं, यह किसी को नहीं पता। सालों से इन पुलिसकर्मियों ने अपनी उपस्तिथि दर्ज नहीं कराई है। रिकार्ड न मिलने पर पुलिस महकमे में खलबली है। इसे पुलिस महकमे की बड़ी गलती मानी जा रही है। इलाहाबाद के एसएसपी नितिन तिवारी जी  ने ट्रेजरी और जिले में तैनात पुलिसकर्मियों की लिस्ट का मिलान किया तो लगभग छह सौ पुलिसकर्मियों का अंतर दिखा । बिना ड्यूटी, तनख्वाह ले रहे इन पुलिसकर्मियों की जांच शुरू हो गई है। एसएसपी नितिन तिवारी जी ने सभी पुलिसकर्मियों की तनख्वाह रोकने का निर्देश दिया है। दरअसल अभी तक जिले की पुलिस का ज्यादातर वर्क पेपर पर चल रहा था। एसएसपी नितिन तिवारी जी ने जिले का पूरा सिस्टम ऑनलाइन करा दिया है। ऐसा साफ्टवेयर लांच किया गया है जिसमें पुलिसकर्मी का पूरा रिकार्ड, तैनाती दर्ज हो रही है। डाटा फीड करने के दौरान यह बात सामने आई। इसके बाद एसएसपी ने दोबारा सभी थानों, आफिसों, सेल, पुलिस लाइन और अफसरों के यहां तैनात पुलिसकर्मियों की सूची मंगाई। अफसरों से सूची का मिलान ट्रेजरी की सूची से करवाया गया। ट्रेजरी की सूची से तनख्वाह लेने वाले छह सौ पुलिसकर्मी की तैनाती कहीं भी नजर नहीं आई। संबंधित पुलिसकर्मी हैं भी अथवा नहीं, नौकरी छोड़ गए हैं या कर रहे हैं, इसकी जानकारी किसी को नहीं हैं। पुलिसकर्मियों की कमी झेल रहे महकमे को इन छह सौ पुलिसकर्मियों के सामने आने पर बड़ी मदद मिलेगी। आकड़ा छह सौ का है, यानी हर थाने में करीब 15 पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ जाएगी। जिससे पुलिस महकमे का कार्य भार पर कमी पड़ेगी तथा जिले में पुलिस सतर्क रह कर और बेहतर कार्य कर सकेगी तथा अपराध पर और बेहतर तरीके से रोक लगा पायेगी |

 



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life