Breaking News
सुप्रीम कोर्ट का फैसला- राज्यसभा चुनाव में NOTA का नहीं होगा इस्तेमाल  |  सावन की चौथी और अंतिम सोमवारी आज-देवघर मंदिर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़-देर रात से ही मंदिर से मीलों लंबी लग गई थी श्रद्धालुओं की कतार  |  सावन की चौथी सोमवारी में देवघर मंदिर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़-देर रात से ही मंदिर से मीलों लंबी लग गई थी श्रद्धालुओं की कतार  |   सावन की तीसरी सोमवारी-देवघर मंदिर में उमड़ा आस्था का केसरिया सैलाब  |  जब आईएसआई चीफ हामिद गुल से मुलाकात हो गई  |  झारखंड हाईकोर्ट ने वर्तमान और पूर्व खान सचिव को तलब किया  |  JAC 10th Result 2018: जानिये झारखण्ड कक्षा 10वीं रिजल्ट से जुड़े जरुरी फैक्ट्स  |  वेतन मिलने पर काम पर लौटे 250 हड़ताली सफाईकर्मी, 14 वार्डों में काम हुआ प्रभावित  |  Jharkhand makes autopsy must in ‘starvation’ deaths, reiterates Giridih woman did not die of hunger  |  In Jharkhand, French Woman Allegedly Molested On Train  |  
विशेष
TRIPURARI RAY 03/06/2018 :16:57
क्या है इलाहाबाद में छह सौ पुलिसकर्मी की नियुक्ति निश्चिन्त ना हो पाने का राज , बिना ड्यूटी के ले रहे वेतन !
Total views 175

क्या है इलाहाबाद में छह सौ पुलिसकर्मी की नियुक्ति निश्चिन्त ना हो पाने का राज , बिना ड्यूटी के ले रहे वेतन !

           

 न्यूज़ ग्राउंड (इलाहाबाद) आकाश मिश्रा :  इलाहाबाद में करीब छह सौ पुलिसकर्मी नियुक्ति निश्चिन्त नही है  हैं। हैरत की बात यह है कि उनकी तनख्वाह तो बन रही है लेकिन तैनाती कहां है, वह क्या-क्या काम कर रहे हैं, यह किसी को नहीं पता। सालों से इन पुलिसकर्मियों ने अपनी उपस्तिथि दर्ज नहीं कराई है। रिकार्ड न मिलने पर पुलिस महकमे में खलबली है। इसे पुलिस महकमे की बड़ी गलती मानी जा रही है। इलाहाबाद के एसएसपी नितिन तिवारी जी  ने ट्रेजरी और जिले में तैनात पुलिसकर्मियों की लिस्ट का मिलान किया तो लगभग छह सौ पुलिसकर्मियों का अंतर दिखा । बिना ड्यूटी, तनख्वाह ले रहे इन पुलिसकर्मियों की जांच शुरू हो गई है। एसएसपी नितिन तिवारी जी ने सभी पुलिसकर्मियों की तनख्वाह रोकने का निर्देश दिया है। दरअसल अभी तक जिले की पुलिस का ज्यादातर वर्क पेपर पर चल रहा था। एसएसपी नितिन तिवारी जी ने जिले का पूरा सिस्टम ऑनलाइन करा दिया है। ऐसा साफ्टवेयर लांच किया गया है जिसमें पुलिसकर्मी का पूरा रिकार्ड, तैनाती दर्ज हो रही है। डाटा फीड करने के दौरान यह बात सामने आई। इसके बाद एसएसपी ने दोबारा सभी थानों, आफिसों, सेल, पुलिस लाइन और अफसरों के यहां तैनात पुलिसकर्मियों की सूची मंगाई। अफसरों से सूची का मिलान ट्रेजरी की सूची से करवाया गया। ट्रेजरी की सूची से तनख्वाह लेने वाले छह सौ पुलिसकर्मी की तैनाती कहीं भी नजर नहीं आई। संबंधित पुलिसकर्मी हैं भी अथवा नहीं, नौकरी छोड़ गए हैं या कर रहे हैं, इसकी जानकारी किसी को नहीं हैं। पुलिसकर्मियों की कमी झेल रहे महकमे को इन छह सौ पुलिसकर्मियों के सामने आने पर बड़ी मदद मिलेगी। आकड़ा छह सौ का है, यानी हर थाने में करीब 15 पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ जाएगी। जिससे पुलिस महकमे का कार्य भार पर कमी पड़ेगी तथा जिले में पुलिस सतर्क रह कर और बेहतर कार्य कर सकेगी तथा अपराध पर और बेहतर तरीके से रोक लगा पायेगी |

 



झारखंड की बड़ी ख़बरें
»»
Video
»»
संपादकीय
»»
विशेष
»»
साक्षात्कार
»»
पर्यटन
»»


Copyright @ Jharkhand Life